बीते दिन जान से मारने की धमकी मिली भागवताचार्य देवकीनन्दन ठाकुर को

मथुरा एससी एसटी ऐक्ट पर केन्द्र सरकार द्वारा लाए अध्यादेश में पुरानी प्रक्रिया को जारी रखने के  विरोध में आवाज उठा रहे भागवताचार्य देवकीनंदन ठाकुर को जान से मारने की धमकी मिली है।पुलिस के अनुसार यह धमकी उन्हें 11 सितंबर की रात को दी गई है जिसके बाद उन्होंने कोतवाली वृन्दावन में तहरीर दी तथा उसके आधार पर एनसीआर दर्ज कर ली गई है।सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद केन्द्र सरकार द्वारा एससी/एसटी ऐक्ट से संबंधित लाए गए  अध्यादेश के खिलाफ वृन्दावन के संतों में उबाल है। वे इसका विरोध कर रहे है और देवकीनन्दन ठाकुर इसकी अगुवाई कर रहे हैं।ठाकुर को 11 सितंबर को धारा 151 के तहत आगरा में उस समय एक होटल से गिरफ्तार कर लिया गया था जबकी  वे वहां पर पत्रकार वार्ता कर रहे थे।देवकीनन्दन ठाकुर ने  बताया कि अध्यादेश के विरोध से संबंधित एक कार्यक्रम 11 सिंतंबर को आगरा में आयोजित किया गया था जिसमें उन्हें बोलने के लिए आमंत्रित किया गया था किंतु जिला प्रशासन द्वारा उसमें जाने से रोक देने के कारण वे आगरा के एक होटल में पत्रकार वार्ता के माध्यम से अपनी बात को जब कह रहे थे उसी समय उन्हें गिरफ्तार किया गया था।

उन्होंने कहा कि पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के कारण उन्हें विदेश भागवत कथा कहने के लिए जाना पड़ रहा है किंतु विदेश से लौटकर वे वकीलों से बात करेंगे और अपनी गिरफ्तारी के विरोध में मानहानि का मुकदमा या कोई अन्य मुकदमा भी आगरा प्रशासन के खिलाफ दायर करेंगे। उनका कहना था कि उनकी गिरफ्तारी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर सीधा हमला है।वर्तमान में इस पर किसी प्रकार की रोक भी नही है ऐसे में उनके खिलाफ की गई कार्रवाई ने उनके हजारों शिष्यों को आहत किया है ।ठाकुर ने स्पष्ट कहा कि एससी/एसटी ऐक्ट का उल्लंघन करनेवाले को यदि सजा मिलती है तो उससे उन्हें किसी प्रकार का परहेज नही है किन्तु उसका दुरूपयोग कर यदि किसी निर्दोष को इसमें फंसाया जाता है तो उनका विरोध इस पर है।उन्होंने कहा कि पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत भागवत पर प्रवचन के लिए उन्हें अमेरिका और अन्य देशों में जाना पड़ रहा है ।वे अक्टूबर माह के अंत में जब वापस वृन्दावन आएंगे तो पुनः ऐक्ट के दुरूपयोग के खिलाफ चल रहे आंदोलन को गति देंगे।इस बीच ठाकुर को हिरासत में लिए जाने पर वृन्दावन के पंडा समाज ने एक मीटिंग कर विरोध प्रकट किया है।

ताराचन्द्र गोस्वामी का कहना था कि भाजपा शासन हिटलरशाही पर उतर आया है तो पूर्व सभासद गोविन्द शर्मा का आरोप था कि सवर्ण समाज के स्वाभिमान और अधिकारों का दमन करनेवाले इस कानून का विरोध करनेवालों को पुलिस केस में फंसाने का प्रयास किया जा रहा है।समाज ने प्रस्ताव पारित कर कहा है कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर आक्रमण बर्दास्त नही किया जाएगा।

बीते दिन जान से मारने की धमकी मिली भागवताचार्य देवकीनन्दन ठाकुर को बीते दिन जान से मारने की धमकी मिली भागवताचार्य देवकीनन्दन ठाकुर को Reviewed by डिस्कवरी टाइम्स on 9/14/2018 10:04:00 pm Rating: 5
Blogger द्वारा संचालित.